IndianHousingProjects

दिल्ली में 60 प्रतिशत तक बढ़ेंगे सर्कल रेट

दिल्ली सरकार ने सर्कल रेट बढ़ाने के प्रस्ताव पर फिर से काम करना शुरू कर दिया है। माना जा रहा है कि अप्रैल में सर्कल रेट बढ़ा दिए जाएंगे। इसी सप्ताह सर्कल रेट बढ़ाने का प्रस्ताव फाइनैंस डिपार्टमेंट और उपराज्यपाल को मंजूरी के लिए भेजा जा रहा है। चुनाव के कारण इस प्रस्ताव पर काम करना बंद कर दिया गया था। दिल्ली के रेवेन्यू सेक्रेटरी धर्मपाल के मुताबिक सर्कल रेट 20 फीसदी से लेकर 60 फीसदी तक बढ़ाए जाने की तैयारी है। सर्कल रेट पर बनी कमिटी ने भी अपनी रिपोर्ट में इतने फीसदी तक बढ़ाने की सिफारिश की है।

200 पर्सेंट कम है मार्केट से
धर्मपाल के मुताबिक राजधानी में सर्कल रेट और प्रॉपर्टी के मार्केट रेट के बीच में अभी 200 फीसदी से भी ज्यादा का गैप है। सर्कल रेट बढ़ाने की कवायद इसलिए भी की जा रही है ताकि प्रॉपर्टी में लगने वाली ब्लैक मनी पर कंट्रोल किया जा सके। ए और बी कैटिगरी में सर्कल रेट 60 फीसदी तक बढ़ाए जा सकते हैं जबकि सी व डी कैटिगरी में सर्कल रेट 40 फीसदी व बाकी ई, एफ, जी व एच कैटिगरी में सर्कल रेट 30 से 20 फीसदी तक बढ़ाने की तैयारी है।

हो रहा है रेवेन्यू लॉस
सर्कल रेट और मार्केट रेट में काफी गैप होने के कारण दिल्ली सरकार के रेवेन्यू को काफी लॉस होता है। रेवेन्यू डिपार्टमेंट अपने इस रेवेन्यू को पाटने के लिए भी सर्कल रेट बढ़ाने की तैयारी कर रही है। सर्कल रेट के बढ़ने से राजधानी में प्रॉपर्टी की खरीद फरोख्त करना महंगा हो जाएगा। लोगों को प्रॉपर्टी का रजिस्ट्रेशन कराने के लिए ज्यादा कीमत चुकानी पड़ेगी।

250 कॉलोनियों का हुआ सर्वे
सर्कल रेट बढ़ाने के लिए दिल्ली सरकार के रेवेन्यू डिपार्टमेंट ने एक कमिटी का गठन किया था। कमिटी में रेवेन्यू डिपार्टमेंट के अलावा, एमसीडी के प्रॉपर्टी टैक्स डिपार्टमेंट के अधिकारी, डीडीए व एल एंड डीओ डिपार्टमेंट के अधिकारियों को शामिल किया गया था। डिपार्टमेंट का दावा है कि इस बार सर्कल रेट की रिपोर्ट तैयार करने के लिए राजधानी की करीब 250 कॉलोनियों का सर्वे किया गया। हर कैटिगरी में करीब 30 से 50 कॉलोनियों में सर्वे किया गया। प्रॉपर्टी के रजिस्ट्रेशन और सर्कल रेट तय करने के लिए रेवेन्यू डिपार्टमेंट ने कॉलोनियों को 8 कैटगरियों में बांटा है। ये कैटिगरी ए से लेकर एच तक हैं। इससे पहले 2012 में सर्कल रेट बढ़ाए गए थे। ए कैटिगरी में सबसे ज्यादा सर्कल रेट हैं जबकि एच कैटिगरी वाली कॉलोनियों में सबसे कम सर्कल रेट तय किए गए हैं।

उठ रहे हैं सवाल भी
दूसरी ओर तमाम लोगों का कहना है कि सर्कल रेट तय करने का तरीका गलत है। रोहिणी को एक ही कैटिगरी में गिना जाता है जबकि यहां पर ऐसी कॉलोनियां हैं जहां प्रॉपर्टी के रेट रोहिणी की पॉश कॉलोनियां के मुकाबले काफी कम हैं, लेकिन प्रॉपर्टी के रजिस्ट्रेशन के वक्त सबको बराबर सर्कल रेट चुकाने पड़ते हैं। ऐसा ही हाल राजधानी के अन्य इलाकों में भी है। इसलिए सर्कल रेट का निर्धारण कॉलोनी के हिसाब और वहां प्रॉपर्टी रेट के मुताबिक होना चाहिए।

कैटिगरी कॉलोनी का नाम सर्कल रेट मार्केट रेट

ए वसंत विहार 645000 12-14 लाख

बी जीके, गुलमोहर पार्क 204600 6 लाख

सी पंजाबी बाग 132000 5 लाख

डी जनकपुरी, द्वारका 106400 3-4 लाख

ई रोहिणी 58400 2 लाख

एफ हरिनगर 47200 1-2 लाख

जी विवेक विहार 38000 3-4 लाख

डी सुल्तानपुर माजरा 19400 50-60 हजार

(रेट: रूपए प्रति वर्ग मीटर)

कहां कितने बढ़ेंगे रेट?
जी और एच कैटिगरी में सर्कल रेट 20 फीसदी तक बढ़ेगा।

एक और बी कैटिगरी में 60 फीसदी तक सर्कल रेट बढ़ने के आसार।

बाकी की कैटिगरी में 40 फीसदी तक सर्कल रेट बढ़ाने का प्लान।

कमिटी ने भी अपनी रिपोर्ट में की सिफारिश
-इसी हफ्ते प्रस्ताव फाइनैंस डिपार्टमेंट व एलजी को भेजा जाएगा
-इलेक्शन के कारण रोक दिया गया था इस प्रस्ताव पर काम
-सर्कल रेट पर बनी कमिटी दे चुकी है पहले ही अपनी रिपोर्ट।

Source : नवभारत टाइम्स Date : Monday, April 28, 2014

More News, You may Use